VerifyKhabar के विचार अहिंसा परमो धर्मः और गाँधी जी के बारे में viral message पर

VerifyKhabar के विचार अहिंसा परमो धर्मः और गाँधी जी के बारे में viral message पर

VerifyKhabar के विचार अहिंसा परमो धर्मः और गाँधी जी के बारे में viral message पर

वैसे आजकल गाँधी जी के बारे दुष्प्रचार करना सोशल मीडिया में आम बात हो गई है जैसा कि हम “गाँधी जी की छवि धूमिल करने की कोशिश गलत फोटोज के द्वारा” में पहले ही देख चुके हैं। परन्तु आजकल सोशल मीडिया पर एक नई कहानी को जन्म दिया जा रहा है कि गाँधी जी ने गीता के श्लोक में काँट छांट करके उसे जनता के सामने आधा अधूरा श्लोक ही रखा।

“अहिंसा परमो धर्म” यानि अहिंसा ही मनुष्य का परम धर्म है। इस श्लोक को हम अपने बचपन से पढ़ते और सीखते आ रहे हैं। वह बात अलग है कि बहुत कम लोग ही इसका पालन कर पाते हैं।

श्लोक:

अहिंसा परमो धर्मः।
धर्म हिंसा तथीव च ।।

अर्थ:

अहिंसा मनुष्य का परम धर्म है।
धर्म की रक्षा के लिए हिंसा भी धर्म है।

गाँधी जी पर आरोप:

गाँधी जी पर आरोप है कि उन्होंने “अहिंसा परमो धर्मः” श्लोक और “रघुपति राघव राजाराम” भजन को बदल दिया। और उनकी वजह से महाभारत का यह श्लोक अधूरा पढ़ाया जाता है, आरोप तो काफी बड़ा और जघन्य है।

ये मैसेज Social Media पर काफी वायरल हो रहा है।

First Part of Viral Message

VerifyKhabar के विचार अहिंसा परमो धर्मः और गाँधी जी के बारे में viral message पर

सबसे पहले हम आपको बताना चाहते हैं कि “अहिंसा परमो धर्मः” का जिक्र गीता और महाभारत में भी किया गया है और गीता में “धर्म हिंसा तथीव च” का भी जिक्र है, जिसका अर्थ है कि धर्म की रक्षा के लिए अगर युद्ध भी करना पड़े तो वह भी धर्म है। यहाँ पर धर्म का मतलब “मानव धर्म” से है ना कि किसी हिन्दू/मुस्लिम/सिक्ख धर्म से।

जिसने महाभारत पढ़ी होगी उसने महाभारत का यह श्लोक भी पूरा पढ़ा होगा, जिसने यह श्लोक पूरा नहीं पढ़ामतलब उसने महाभारत नहीं पढ़ी, लेकिन अपने महाभारत न पढ़ने का दोष गाँधी जी को क्यों?

इस वायरल मैसेज में श्लोक का अर्थ यह बताया जा रहा है  हिंसा मनुष्य का परम धर्म है  और धर्म की रक्षा के लिए हिंसा करना उस से भी श्रेष्ठ है।  इसमें धर्म के लिए हिंसा करने को श्रेष्ठ बताया गया है, जबकि श्लोक के वास्तविक अर्थ में “धर्म की रक्षा के लिए हिंसा भी धर्म है ” ऐसा बताया गया है। यहां हिंसा अहिंसा की तुलना नहीं हो रही। अब जिन लोगों ने महाभारत नहीं पढ़ी उनको अचानक से यह पूरा श्लोक ज्ञात होते ही, उन्होंने क्या मतलब निकाला 😀

“हिन्दू धर्म की रक्षा के लिए लोगों पर हिंसा करना उचित है।”

लोग इस श्लोक का प्रयोग अब हिन्दुओं में हिंसा भड़काने के लिए कर रहे हैं, हिन्दुओं को दूसरे धर्म के खिलाफ भड़कानें के लिए इस श्लोक का प्रयोग किया जा रहा है।

ahinsa dharma

किन्तु यह बता दे जो इस श्लोक का वास्ता देकर हिंसा करने की बात कर रहे हैं कि हिन्दू धर्म खतरे में हैं, उन्हें बता दें कि इस श्लोक में धर्म से मतलब हिन्दू/मुस्लिम/सिक्ख नहीं है। यहाँ “धर्म की रक्षा के लिए हिंसा” से मतलब, गलत को सजा देने से है। ज़ुर्म के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने से है।  बता दे कि यह श्लोक श्री कृष्णा जी ने अर्जुन को तब बोला था, जब अर्जुन धर्म संकट में थे, उन्हें अपनों को बचाने के लिए अपनों से ही लड़ना था। उन लोगो से लड़ना था जिन्होंने उनसे धोखे से उनका राजपाट छीना था, उन लोगों से लड़ना था जिन्होंने द्रौपदी का चीरहरण किया था। इतना सब गलत सहने के बाद भी वो धर्म संकट में थे कि जिन्होंने यह सब किया है वो भी उनके अपने हैं।  उस समय श्री कृष्णा से इस श्लोक का उच्चारण किया अर्थात धर्म की रक्षा के लिए हिंसा भी धर्म है, तुम्हारे बुराई के खिलाफ लड़ना तुम्हारा धर्म है।

यह तो अच्छा है कि गाँधी जी ने आधे ही श्लोक का प्रचार किया, वरना अल्प ज्ञान के चलते लोग उसका कुछ अलग ही मतलब निकालते 😛

ये भी पढ़ें: अनुच्छेद 30A और स्कूलों में गीता – रामायण की पढाई पर पाबंदी

दूसरा आरोप:-

लोगों के अनुसार गांधीजी ने सिर्फ इस श्लोक को ही नहीं बल्कि उसके अलावा उन्होंने एक प्रसिद्ध भजन को बदल दिया…

लोगों के अनुसार ‘रघुपति राघव राजा राम’ वाले प्रसिद्ध-भजन में गाँधी जी ने इसमें परिवर्तन करते हुए अल्लाह शब्द जोड़ दिया..

Second Part of Viral Message

raghupati-raghav-raj-ram-gandhi-ji

 

‘श्रीराम को सुमिरन’ करने के इस भजन को जिन्होंने बनाया था उनका नाम था लक्ष्मणाचार्य। ये भजन “श्री नमः रामनायनम” नामक हिन्दू-ग्रन्थ से लिया गया है। अब हम आप सब से जानना चाहते है कि यदि गाँधी जी इस भजन में “ईश्वर अल्लाह” शब्द का प्रयोग किया तो इसमें क्या गलत है क्योकि उन्होंने यहाँ पर साफ़ साफ़ कहा है कि ईश्वर अल्लाह वह एक ही हैं, भले ही लोग उन्हें अलग अलग नाम से पुकारें।

Share the News and Let the people know the truth
Related Posts

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



%d bloggers like this:
Read previous post:
Lie of Bullet Train comparison in a tweet
बुलेट ट्रेन पर tweet किया गया सफ़ेद झूठ

जाने अनजाने अक्सर लोग सोशल मीडिया पर अफवाहें या झूठ फैलाते रहते हैं, हम "घायल लड़की की वायरल हो रही...

Close